IAS Pari Bishnoi Success Story : पहले दो प्रयासों में असफल रही ये आईएएस अफसर, अब माता पिता की प्रेरणा से बनी आईएएस, जानिए इनकी सफलता की कहानी

IAS Pari Bishnoi Success Story : UPSC की परीक्षा को दुनिया की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है। इसे परीक्षा को पास करने का सपना तो हर कोई देखता है, लेकिन इसे पास करने के लिए सिर्फ चुने हुए व्यक्तियों को ही सफलता मिलती है। क्योंकि इसके लिए दिन-रात मेहनत करनी पड़ती है। इसके साथ ही, लगभग हर विषय का गहरा ज्ञान होना भी अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस परीक्षा को पास करने वालों में परी बिश्नोई जैसे नाम भी है, जिन्होंने कठिन मेहनत के बाद इसमें सफलता प्राप्त की।

IAS बनने के पीछे सबसे बड़ा सफलता का हाथ माता पिता का

परी बताती है कि उनके आईएएस बनने के पीछे सबसे बड़ा सफलता का हाथ उनके माता-पिता का रहा है। वह बताती है कि उनके पिता का नाम मनीराम बिश्नोई है, और वे एक वकील हैं, जबकि उनकी मां का नाम सुशीला बिश्नोई है, और वह अजमेर में जीआरपी थानाधिकारी हैं। परी के पिता अपने गांव के 4 बार सरपंच रहे हैं। परी ने सेंट मैरी कॉन्वेंट स्कूल से स्कूली शिक्षा प्राप्त की है।

तीसरे प्रयास में की परीक्षा में सफलता हांसिल

उसके बाद, परी ने अपनी आगे की पढ़ाई के लिए दिल्ली जाने का निर्णय लिया। परी बताती है कि उनके माता-पिता ने बचपन से ही उन्हें पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित किया और हमेशा उनका साथ देते है । जब परी अपने पहले दो प्रयासों में सफल नहीं हो पाई, तो उनकी मां ने उनकी होसलो को बढ़ावा दिया और कभी भी हार न मानने की सलाह भी दी। इसके परिणामस्वरूप, परी ने अपने तीसरे प्रयास में UPSC परीक्षा (UPSC Exam) को पास किया और 30वीं रैंक भी हासिल किया।

पारी सोशल मीडिया पर रहती है ज्यादा एक्टिव

इसके साथ ही, यह बताना जरूरी है कि आईएएस परी बिश्नोई सोशल मीडिया साइट इंस्टाग्राम और ट्विटर पर काफी प्रसिद्ध हैं। उनके इंस्टाग्राम पर हजारों फॉलोअर्स हैं। वे सोशल मीडिया पर अक्सर अपनी फोटोज़ साझा करती हैं। वर्तमान में, वह मिनिस्ट्री ऑफ पेट्रोलियम एंड नैचुरल गैस में एक असिस्टेंट सेक्रेटरी के तौर पर काम कर रही हैं।

पारी टाइम मैनेजमेंट का भी ध्यान ज्यादा रखती है

इस दौरान, परी ने बताया कि उम्मीदवारों को सभी विषयों की एनसीईआरटी किताबें पढ़नी बहुत आवश्यक है। उन्होंने सुझाव दिया कि पिछले साल के पेपर्स को हल करना चाहिए और मॉक टेस्ट भी देना चाहिए। सही रणनीति के साथ नियमित रूप से पढ़ाई करने और सही जवाब देने के प्रैक्टिस के अलावा, समय प्रबंधन का भी ध्यान देना बेहद महत्वपूर्ण है।

Scroll to Top